किशोर (जुवेनाइल) मोतियाबिंद: लक्षण, कारण और उपचार – Juvenile Cataract: Symptoms, Causes And Treatment In Hindi

juvenile cataracts

Contents

किशोर मोतियाबिंद (जुवेनाइल) क्या है – What Is Juvenile Cataracts In Hindi

What are Juvenile Cataracts?किशोर या जुवेनाइल मोतियाबिंद बचपन में होने वाले मोतियाबिंद का एक सामान्य प्रकार है, जो जीवन के पहले कुछ वर्षों में विकसित होता है। यह मोतियाबिंद एक या दोनों आंखों को प्रभावित कर सकता है। ज्यादातर मामलों में किशोर मोतियाबिंद दृष्टि समस्याओं का कारण नहीं बनता है। हालांकि, इलाज नहीं किए जाने पर यह जीवन में बाद में गंभीर दृष्टि समस्याओं का कारण बन सकता है। अक्सर आनुवंशिक कारक किशोर मोतियाबिंद का कारण बनते हैं। इसके अलावा मोतियाबिंद का यह प्रकार डायबिटीज या डाउन सिंड्रोम जैसी कुछ चिकित्सीय स्थितियों के कारण भी हो सकते हैं। कई बार आंख में चोट लगने से भी किशोर मोतियाबिंद हो सकता है।

दुनिया भर में लगभग 200,000 बच्चे किशोर मोतियाबिंद से प्रभावित हैं। यह मोतियाबिंद धुंधली दृष्टि या कम रोशनी में देखने पर कठिनाई जैसी दृष्टि समस्याओं का कारण बन सकता है। अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर किशोर मोतियाबिंद ग्लूकोमा या अंधेपन जैसी गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकता है। किशोर मोतियाबिंद वाले ज्यादातर बच्चों के लिए उपचार जरूरी है। हालांकि, मोतियाबिंद को हटाने के लिए कुछ बच्चों को सर्जरी की जरूरत हो सकती है। मोतियाबिंद के इस प्रकार का इलाज करने के लिए सर्जरी सबसे सुरक्षित और प्रभावी है।

अगर आपके बच्चे को हाल ही में किशोर मोतियाबिंद का पता चला है, तो नियमित जांच के लिए नेत्र रोग विशेषज्ञ को दिखाना जरूरी है। इससे आपको यह सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि मोतियाबिंद जीवन में बाद में कोई दृष्टि संबंधी समस्या या जटिलताएं पैदा नहीं करता है। इस ब्लॉग पोस्ट में हम किशोर मोतियाबिंद के बारे में आपके सवालों के जवाब देंगे। साथ ही हम किशोर मोतियाबिंद के कारण, उपचार विकल्प और भविष्य में की जाने वाली उम्मीद के बारे में भी चर्चा करेंगे। हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको अपने बच्चे के लिए सबसे अच्छा फैसला लेने में मदद करेगी।

किशोर मोतियाबिंद के प्रकार – Types of Juvenile Cataracts In Hindi

किशोर मोतियाबिंद के अलग-अलग प्रकार हो सकते हैं। इनमें से कुछ प्रकार निम्नलिखित हैं:

जन्मजात मोतियाबिंद

जन्मजात मोतियाबिंद तब होता है, जब बच्चा मोतियाबिंद के साथ पैदा होता है या जन्म के तुरंत बाद इसे विकसित कर लेता है। इस प्रकार का मोतियाबिंद आपके बच्चे की एक या दोनों आंखों में हो सकता है और आमतौर पर समय के साथ खराब हो जाता है। मोतियाबिंद का यह प्रकार लड़कियों के मुकाबले लड़कों में ज्यादा बार देखा जाता है।

वंशानुगत मोतियाबिंद

वंशानुगत मोतियाबिंद तब होता है, जब परिवार में मोतियाबिंद चलता है। इस प्रकार का मोतियाबिंद आमतौर पर दोनों आंखों को प्रभावित करता है, लेकिन एक आंख में दूसरी के मुकाबले ज्यादा खराब हो सकता है। अगर आपको इस प्रकार का मोतियाबिंद है, तो आपको ग्लूकोमा या मैकुलर डिजेनेरेशन सहित आंखों की अन्य गंभीर समस्याएं भी हो सकती हैं।

अभिघातजन्य मोतियाबिंद

अभिघातजन्य मोतियाबिंद आंख में चोट लगने के बाद होता है। इस प्रकार के मोतियाबिंद का सबसे आम कारण सिर पर चोट लगना या आंखों की सर्जरी है। मोतियाबिंद का यह प्रकार आमतौर पर वयस्कों में होता है, लेकिन कई बार आंख में चोट लगने की वजह से बच्चों में भी हो सकता है।

परमाणु स्क्लेरोटिक मोतियाबिंद

परमाणु स्क्लेरोटिक मोतियाबिंद वयस्कों में मोतियाबिंद का सबसे आम प्रकार है। इस प्रकार का मोतियाबिंद आमतौर पर धीरे-धीरे होता है और सबसे पहले आंख के केंद्र में देखा जाता है। जैसे-जैसे इस प्रकार का मोतियाबिंद खराब होता जाता है, यह आपकी दृष्टि को धुंधला और अस्पष्ट बना सकता है।

कॉर्टिकल मोतियाबिंद

कॉर्टिकल मोतियाबिंद पुतली के किनारे से शुरू होता है और लेंस के केंद्र तक अपना काम करता है। इस प्रकार का मोतियाबिंद आमतौर पर धीरे-धीरे होता है। यह आपकी दृष्टि को ऐसा अनुभव करा सकता है, जैसे आप फीते के एक टुकड़े को देख रहे हैं।

पोस्टीरियर सबकैप्सुलर मोतियाबिंद

पोस्टीरियर सबकैप्सुलर मोतियाबिंद लेंस के पिछले हिस्से में शुरू होता है। आमतौर पर धीरे-धीरे विकसित होने वाला इस प्रकार का मोतियाबिंद आपकी दृष्टि को धुंधला बना सकता है। इसके अलावा यह रात में देखते समय भी मुश्किल करता है। मोतियाबिंद का यह प्रकार आपको प्रकाश के प्रति ज्यादा संवेदनशील बना सकता है।

किशोर मोतियाबिंद के लक्षण – Symptoms Of Juvenile Cataracts In Hindi

Different Signs of Juvenile Cataractsकिशोर मोतियाबिंद के कई अलग-अलग लक्षण हैं। इनमें से कुछ हैं:

बच्चे में धुंधली दृष्टि

किशोर मोतियाबिंद के सबसे आम लक्षणों में से एक धुंधली दृष्टि है। इससे आपके बच्चे के लिए स्पष्ट रूप से देखना मुश्किल हो सकता है। कभी-कभी आपके बच्चे को धुंधली दृष्टि के अलावा कोई अन्य लक्षण अनुभव नहीं होता है।

चकाचौंध और प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता

किशोर मोतियाबिंद का अन्य सामान्य लक्षण चकाचौंध और प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता है। इसका मतलब है कि आपके बच्चे को तेज रोशनी या धूप देखने में परेशानी हो सकती है। तेज रोशनी के संपर्क में आने पर उन्हें सिरदर्द या आंखों में थकान का अनुभव भी होता है।

लगातार देखना

अगर आपका बच्चा लगातार देख रहा है, तो यह किशोर मोतियाबिंद का संकेत हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि स्क्विंटिंग मोतियाबिंद से होने वाले धुंधलेपन की मात्रा कम करता है। यह आंख में जाने वाली रोशनी की मात्रा को कम कर सकता है।

खराब रात की दृष्टि

रात में कम दिखना किशोर मोतियाबिंद का अन्य आम लक्षण है। इसमें आपके बच्चे को कम रोशनी में या रात में देखने हुए दिक्कत हो सकती है। कभी-कभी खराब रात की दृष्टि के अलावा कोई अन्य लक्षण अनुभव नहीं होते हैं।

एक आंख में दोहरी दृष्टि

यह किशोर मोतियाबिंद के ज्यादा गंभीर लक्षणों में से एक है। दोहरी दृष्टि आपके बच्चे के लिए स्पष्ट रूप से देखना मुश्किल बना सकती है। अगर इस लक्षण का समय रहते इलाज नहीं किया जाता है, तो यह एम्ब्लियोपिया यानी आलसी आंख जैसी समस्या का कारण बन सकती है।

कभी-कभी किशोर मोतियाबिंद के एक या कई अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं। अगर आप अपने बच्चे की दृष्टि में कोई बदलाव देखते हैं, तो तुरंत एक नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना जरूरी है।

किशोर मोतियाबिंद के कारण – Causes Of Juvenile Cataracts In Hindi

कई कारण किशोर मोतियाबिंद का कारण बन सकते हैं, जैसे:

उम्र बढ़ना

यह मोतियाबिंद का सबसे आम कारण है। बढ़ती उम्र के साथ हमारी आंखों के प्रोटीन टूटकर आपस में टकराने लगते हैं। इससे रोशनी का लेंस से गुजरना मुश्किल हो जाता है और यही कारण धुंधली दृष्टि की समस्या पैदा करता है। कभी-कभी उम्र बढ़ने से आंख का लेंस पीला या भूरा हो जाता है।

चोट

आंख और सिर में चोट के अलावा सर्जरी भी मोतियाबिंद का कारण बन सकती है। कई बार आंखों को बहुत जोर से रगड़ने से मोतियाबिंद हो सकता है। अगर आपको आंख को प्रभावित करने वाली कोई चोट लगी है, तो किसी भी नुकसान की जांच के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बीमारी

डायबिटीज और उच्च रक्तचाप जैसी कुछ बीमारियों से भी मोतियाबिंद हो सकता है। ऐसे में अगर आपको कोई पुरानी बीमारी है, तो उन्हें नियंत्रण में रखना जरूरी है। साथ ही आपको किसी भी जटिलता का पता लगाने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

आनुवंशिकी

मोतियाबिंद वंशानुगत भी हो सकते हैं, इसलिए परिवार में किसी को मोतियाबिंद होने पर आपको भी इससे प्रभावित होने की संभावना ज्यादा होती है। कई बार एक आनुवंशिक उत्परिवर्तन भी मोतियाबिंद का कारण बन सकता है। कभी-कभी आनुवंशिकी भी एक अहम भूमिका निभाती है कि मोतियाबिंद कितनी तेजी से विकसित होगा।

पराबैंगनी विकिरण

सूरज या टैनिंग बेड से यूवी रेडिएशन के संपर्क में आने से भी आपकी आंखों के प्रोटीन को नुकसान हो सकता है, जो मोतियाबिंद का कारण बनता है। ऐसे में बाहर जाते समय धूप का चश्मा या टोपी पहनना जरूरी है।

यह किशोर मोतियाबिंद के कुछ प्रमुख कारण हैं। अगर आपको मोतियाबिंद के लक्षण अनुभव होते हैं, तो समस्या के निदान और प्रभावी उपचार के लिए एक अनुभवी नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना जरूरी है।

किशोर मोतियाबिंद का निदान – Diagnosis Of Juvenile Cataracts In Hindi 

अगर आपके बच्चे की दृष्टि बिगड़ रही है, तो जल्द से जल्द चिकित्सा सहायता लेना जरूरी है। मोतियाबिंद होने पर सबसे पहला कदम बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना है। इस दौरान डॉक्टर आपके बच्चे की आंखें टेस्ट करते हैं। इसमें विजुअल एक्विटी टेस्ट शामिल है, जो यह मापता है कि आपका बच्चा कितनी अच्छी तरह दूर और नज़दीक से देखता है। डॉक्टर आपके बच्चे की पुतलियों को बड़ा करने के लिए खास आई ड्रॉप्स भी उपयोग कर सकते हैं, ताकि आंख के अंदर का बेहतर दृश्य दिख सके। किशोर मोतियाबिंद का निदान होने के बाद अगला कदम यह निर्धारित करना है कि क्या सर्जरी जरूरी है। मोतियाबिंद छोटा होने या दृष्टि को गंभीर रूप से प्रभावित नहीं करने जैसे कुछ मामलों में सर्जरी का सुझाव नहीं दिया जाता है।

मोतियाबिंद बड़ा होने या दृष्टि संबंधी गंभीर समस्याएं पैदा करने जैसे अन्य मामलों में सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है। अगर आपके बच्चे को सर्जरी की जरूरत है, तो डॉक्टर आपके साथ प्रक्रिया के जोखिमों और फायदों पर चर्चा करते हैं। आमतौर पर इस प्रकार की सर्जरी का लक्ष्य मोतियाबिंद को हटाना और दृष्टि में सुधार करना है। ज्यादातर मामलों में यह सुरक्षित और सफलता के साथ किया जा सकता है। हालांकि, किसी भी सर्जरी की तरह इसमें कुछ जोखिम शामिल होते हैं। सर्जरी के साथ आगे बढ़ने का फैसला लेने के बाद अगला कदम प्रक्रिया को शेड्यूल करना है। किशोर मोतियाबिंद के इलाज के लिए सर्जरी अक्सर पर एक आउट पेशेंट के आधार पर की जाती है। इसका मतलब है कि आपका बच्चा प्रक्रिया वाले दिन ही घर जा सकता है।

किशोर मोतियाबिंद का उपचार – Treatment Of Juvenile Cataracts In Hindi

How To Treat Juvenile Cataracts?छोटे बच्चों में मोतियाबिंद का इलाज वयस्कों में मोतियाबिंद के इलाज से अलग है, क्योंकि छोटे बच्चों में लेंस अभी भी बढ़ और बदल रहे हैं। इसका मतलब है कि मोतियाबिंद हटाने के लिए सर्जरी सबसे अच्छा विकल्प नहीं है। इसके बजाय डॉक्टर मोतियाबिंद में बदलाव के लिए आपके बच्चे की बारीकी से निगरानी करते हैं।

अगर मोतियाबिंद आपके बच्चे की दृष्टि को प्रभावित करने लगता है, तो सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है। किशोर मोतियाबिंद के लिए सर्जरी सुरक्षित और प्रभावी प्रक्रिया है, लेकिन किसी भी सर्जरी से जुड़े जोखिम हमेशा होते हैं। ऐसे में कोई भी फैसला लेने से पहले अपने बच्चे के डॉक्टर के साथ सर्जरी के सभी जोखिमों और फायदों पर चर्चा जरूर करें। इसका अलावा बिना सर्जरी वाले उपचार भी हैं, जिन्हें किशोर मोतियाबिंद के इलाज में उपयोग किया जा सकता है, जैसे:

– चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस: यह किशोर मोतियाबिंद वाले बच्चों के लिए प्राथमिक उपचार विकल्प है। मोतियाबिंद से होने वाली धुंधली दृष्टि के लिए चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस सबसे बेहतर तरीका है, जिससे आपके उनकी दृष्टि को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है।

– मैग्निफाइंग ग्लास: अगर मोतियाबिंद से आपके बच्चे की दृष्टि प्रभावित नहीं हो रही है, तो मैग्निफाइंग ग्लास अच्छा विकल्प है। इससे आपके बच्चे की दृष्टि को करीब से बेहतर देखने में मदद मिल सकती है।

– यूवी रेडिएशन: इस उपचार में प्रत्येक दिन कुछ समय के लिए आपके बच्चे की आंखों में खास रोशनी डालना शामिल है। इससे मोतियाबिंद को सिकोड़ने और दृष्टि सुधार में मदद मिलती है।

अगर आपके बच्चे को किशोर मोतियाबिंद है, तो तुरंत उनके डॉक्टर से संपर्क करना सुनिश्चित करें। दृष्टि को बचाने के लिए शुरुआती निदान और उपचार जरूरी हैं। किशोर मोतियाबिंद का इलाज संभव है और उचित देखभाल से आपके बच्चे को अच्छी दृष्टि मिल सकती है।

किशोर मोतियाबिंद के लिए सुझाव – Tips For Juvenile Cataracts In Hindi

आमतौर पर बच्चे की बीमारी से निपटना कभी आसान नहीं होता है। जब आपके बच्चे को किशोर मोतियाबिंद होता है, तो यह खासतौर से कठिन हो सकता है। ऐसे में इससे निपटने के तरीके के कुछ सुझाव निम्नलिखित हैं:

अपने बच्चे से बात करें

मोतियाबिंद के बारे में अपने बच्चे से बात करना सबसे मुख्य चीजों में से है, जो आप कर सकते हैं। उन्हें यह समझने की जरूरत है कि यह क्या है और उन्हें सर्जरी की जरूरत क्यों पड़ सकती है। उन्हें चीजों को आसानी से समझाने की कोशिश करें। उन्हें भरोसा दिलाएं कि आप हर कदम पर उनके साथ रहेंगे। कभी-कभी इसके बारे में बात करने से कुछ तनाव और चिंता को कम करने में मदद मिल सकती है।

अपने आप को शिक्षित करें

किशोर मोतियाबिंद के बारे में खुद को शिक्षित करना भी महत्वपूर्ण है। जितना अधिक आप जानते हैं, आप हर चीज से निपटने के लिए उतने ही बेहतर ढंग से सुसज्जित होंगे। अपने बच्चे के डॉक्टर से बात करें और सवाल पूछें। विषय पर किताबें या लेख पढ़ें। जितना अधिक आप जानेंगे, आप अपने बच्चे की मदद करने में उतने ही बेहतर होंगे।

एक सहायता समूह खोजें

एक अन्य उपयोगी साझाव किशोर मोतियाबिंद वाले बच्चों के माता-पिता के लिए एक सहायता समूह खोजना है। यह एक बहुत फायदेमंद संसाधन हो सकता है। आप अन्य माता-पिता से जुड़ सकते हैं, जो इसी समस्या से जूझ रहे हैं। इससे निपटने के तरीके के बारे में जानकारी और सुझाव साझा करना फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा ऑनलाइन सहायता समूह भी हैं, जिनसे आप जुड़ सकते हैं।

अपना ख्याल रखें

मोतियाबिंद के इलाज में अपना ख्याल रखना भी बहुत जरूरी है। जब आप किसी बीमार बच्चे के साथ व्यवहार कर रहे होते हैं, तो अपनी खुद की जरूरतों को भूलना आसान होता है। हालांकि, अगर आप अपना ख्याल नहीं रखेंगे तो आप अपने बच्चे की उचित देखभाल नहीं कर पाएंगे। इसके अलावा स्वस्थ आहार का सेवन और भरपूर आराम करना सुनिश्चित करें। ऐसा इसलिए है, क्योंकि व्यायाम तनाव को कम करने में भी मदद कर सकता है। इसलिए, जरूरत पड़ने पर अनुभवी आंखों के डॉक्टर से परामर्श करना सुनिश्चित करें।

बदलावों को समायोजित करने में उनकी मदद करें

अगर आपके बच्चे को सर्जरी की जरूरत है, तो उन्हें कुछ बदलावों को समायोजित करने की जरूरत हो सकती है। इसके अलावा उन्हें चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस भी पहनने पड़ सकता है। उनके लिए मैग्निफाइंग चश्मे का उपयोग करना भी जरूरी हो सकता है। इसलिए, इन बदलावों के साथ तालमेल बिठाने में उनकी मदद करें और उन्हें इसकी जरूरत और फायदे समझाना सुनिश्चित करें।

किशोर मोतियाबिंद वाले ज्यादातर बच्चे उचित देखभाल और उपचार के साथ अच्छी दृष्टि बनाए रख सकते हैं। इसलिए अगर आपके बच्चे को इस स्थिति का पता चला है, तो सही सपोर्ट से आप इसके जरिए उनकी मदद कर सकते हैं।

निष्कर्ष – Conclusion In Hindi

किशोर मोतियाबिंद एक ऐसी स्थिति है, जिसका इलाज किया जा सकता है। इस प्रकार शुरुआती पहचान और उपचार के साथ आपका बच्चा सामान्य और स्वस्थ जीवन जी सकता है। यदि आपके पास अपने बच्चे की दृष्टि के बारे में कोई प्रश्न या चिंता है, तो अपने डॉक्टर से बात करना सुनिश्चित करें। इस स्थिति से निपटने में आपकी और आपके परिवार की मदद करने के लिए कई संसाधन उपलब्ध हैं। आप किशोर मोतियाबिंद वाले बच्चों के माता-पिता के लिए सहायता समूह भी पा सकते हैं। अपना ख्याल रखना भी याद रखें। बीमार बच्चे की देखभाल करना तनावपूर्ण और थका देने वाला हो सकता है। लेकिन अगर आप अपना ख्याल रखेंगे तो आप अपने बच्चे की बेहतर देखभाल कर पाएंगे।

मोतियाबिंद सर्जरी एक सुरक्षित और दर्द रहित प्रक्रिया है। आई मंत्रा में हमारे पास अनुभवी आंखों के सर्जनों की एक टीम है, जो मोतियाबिंद सर्जरीमोतियाबिंद सर्जरी की कीमत, मोतियाबिंद सर्जरी के अलग-अलग प्रकारों के लिए मोतियाबिंद लेंस की कीमत- फेकोइमल्सीफिकेशनएमआईसीएस और फेम्टो लेजर मोतियाबिंद पर आपके किसी भी सवाल का जवाब देने में सक्षम है। ज्यादा जानकारी के लिए हमें +91-9711116605 पर कॉल या [email protected] पर ईमेल करें।