फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद: लक्षण, कारण और उपचार – Floriform Cataract: Symptoms, Causes And Treatment In Hindi

Floriform Cataract: Signs, Causes and Treatment

Contents

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद क्या है – What Is Floriform Cataract In Hindi

What is a Floriform Cataract?अगर आप भी फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद से पीड़ित हैं और उपचार के विकल्प जानना चाहते हैं, तो यह ब्लॉग पोस्ट आपके लिए बहुत फायदेमंद है। फ्लोटर्स आमतौर पर आपकी दृष्टि में तैरने वाले धब्बे या फाइबर होते हैं। जब आप सफेद पन्ने या नीले आसमान जैसी किसी चमकदार चीज़ को देखते हैं, तो यह ज्यादा ध्यान देने वाले हो सकते हैं। कभी-कभी ज्यादातर लोगों के पास दृष्टि में बाधा नहीं बनने वाले फ्लोटर्स होते हैं। हालांकि, बढ़ती उम्र के साथ फ्लोटर्स छोटे होते हैं और ज्यादा संख्या में बनते हैं।

कुछ दुर्लभ मामलों में फ्लोटर्स आंख की गंभीर समस्या का संकेत देते हैं। इस प्रकार के फ्लोटर को फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद कहा जाता है। यह स्थिति लेंस बनाने वाले प्रोटीन के गुच्छे से आंख का लेंस धुंधला और खराब होने पर होती है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद असामान्य और हानिरहित हैं, लेकिन अनुपचारित छोड़े जाने पर यह गंभीर दृष्टि समस्याएं पैदा करते हैं। यह ज्यादातर 60 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों में होता है और मोतियाबिंद पुरुषों के मुकाबले महिलाओं आम है। इसके अलावा डायबिटीज या अन्य पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों से पीड़ित लोगों में भी फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का खतरा बढ़ जाता है।

आपके नेत्र रोग विशेषज्ञ आंखों की पूरी जांच के आधार पर इसका निदान करते हैं, लेकिन कुछ मामलों में लक्षणों के संभावित कारण जानने के लिए अन्य जांच जरूरी हो सकती है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के उपचार में धुंधला लेंस हटाने और इसे साफ आर्टिफिशियल लेंस से बदलने के लिए सर्जरी शामिल है। फ्लोटर्स के लक्षण दिखने या कोई दृष्टि समस्या होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। फूल जैसा दिखाने वाला यह मोतियाबिंद ल्यूकोकोरिया से भ्रमित सफेद पुतली है। इस ब्लॉग पोस्ट में हम फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के लक्षण, कारण और उपचार विकल्पों पर चर्चा करेंगे। इससे आपको मोतियाबिंद की रोकथाम और गंभीर दृष्टि समस्याओं से बचने में मदद मिलती है।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के लक्षण – Symptoms Of Floriform Cataract In Hindi

Signs of Floriform Cataractफ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का सबसे स्पष्ट लक्षण फ्लोटर्स की उपस्थिति है। यह फ्लोटर्स आपकी दृष्टि में दिखाई देने वाले छोटे बिंदु, रेखाएं या वेब जैसी आकृतियां हो सकती हैं। जब आप किसी सफेद पन्ने या नीले आसमान जैसी किसी चमकदार चीज़ को देखते हैं, तो यह ज्यादा ध्यान देने वाले हो सकती हैं। इसके अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

धुंधली दृष्टि

फ्लोरीफॉर्म मोतियाबिंद के सबसे आम लक्षणों में से एक धुंधली दृष्टि है। यह आंख के लेंस में धुंधलापन आने से होती है। कभी-कभी धुंधली दृष्टि अन्य आंखों की स्थिति का एक लक्षण है। ऐसे में अगर आप इस लक्षण का अनुभव कर रहे हैं, तो आपको जल्द से जल्द किसी अनुभवी नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए।

रात के समय देखने में कठिनाई

अगर आपको फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद है, तो आपको रात के समय देखने में भी परेशानी हो सकती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि लेंस में धुंधलापन छाने से प्रकाश का गुजरना मुश्किल होता है। हालांकि, रात के समय दृष्टि की समस्या अन्य स्थितियों की वजह से भी हो सकती है। इसलिए यह लक्षण दिखने पर आपको एक योग्य आंखों के डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दी जाती है।

रोशनी की चमक

फ्लोरीफॉर्म मोतियाबिंद का एक अन्य लक्षण रोशनी की चमक है। यह रोशनी की चमक कुछ समय के लिए आपके दृष्टि क्षेत्र में दिखाई देती है। हालांकि, यह ज्यादा समय के लिए भी हो सकती है, जो बिजली की धारियों जैसी दिखती है।

पढ़ने में कठिनाई

इस स्थिति का एक अन्य सामान्य लक्षण पढ़ने में कठिनाई है। यह आपकी दृष्टि में फ्लोटर्स की उपस्थिति या धुंधलेपन की वजह से हो सकता है। कभी-कभी यह दोनों लक्षण एक ही समय में हो सकते हैं। अगर आपको पढ़ने में कठिनाई हो रही है, तो अपने आंखों के डॉक्टर से परामर्श करना जरूरी है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वह निर्धारित करने में सक्षम हैं कि आपको फ्लोरीफॉर्म मोतियाबिंद है या नहीं।

चकाचौंध या चमक

यह आपके द्वारा अनुभव किया जाने वाला एक अन्य लक्षण है। अगर आपके पास एकफ्लोरीफॉर्म मोतियाबिंद है, तो यह चकाचौंध या चमक फ्लोरीफॉर्म मोतियाबिंद का अन्य संकेत हो सकता है। इसका मतलब है कि जब आप रोशनी को देखते हैं, तो आपको इसके चारों तरफ चमकते घेरे प्रतीत होते हैं। यह लक्षण आपके लिए देखना मुश्किल बनाता है और बहुत परेशान करने वाला हो सकता है।

आंखों में संवेदनशीलता बढ़ना

इस स्थिति वाले व्यक्ति को अपनी आंखें प्रकाश के प्रति ज्यादा संवेदनशील महसूस हो सकती हैं। इससे आपके लिए अच्छी रोशनी वाली जगहों में रहना मुश्किल होता है। साथ ही बहुत सी असुविधाएं हो सकती हैं और कई बार यह परेशानी सिर दर्द के साथ भी आती है।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के कारण – Causes Of Floriform Cataract In Hindi

What Causes a Floriform Cataract? फ्लोरिफॉर्म आंख के लेंस में विकसित होने वाला मोतियाबिंद का अन्य प्रकार है, जिसका कारण लेंस से होकर आने वाली रोशनी के तरीके में बदलाव है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के कई अलग-अलग कारण हैं, जिसमें उम्र, आनुवंशिकी और चोट शामिल हैं। आमतौर पर फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद समय के साथ धीरे-धीरे विकसित होता है, लेकिन कभी-कभी तेजी से ज्यादा गंभीर हो सकता है।

मोतियाबिंद के इस प्रकार का कारण यूवी रेडिएशन से लंबे समय तक संपर्क है, जो लेंस में प्रोटीन को नुकसान पहुंचाता है। इससे प्रोटीन आपस में टकराते हैं और एक धुंधला हिस्सा बनाते हैं। आमतौर पर बिना सुरक्षा के ज्यादातर समय बाहर रहने वाले लोगों की आंखों में फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके अन्य जोखिम कारक हैं:

डायबिटी

यह 60 साल से कम उम्र के लोगों में मोतियाबिंद का अन्य मुख्य कारण है। डायबिटीज वाले लोगों का शरीर रक्त शर्करा स्तर को ठीक से नियंत्रित नहीं कर पाता है। इससे लेंस के प्रोटीन में बदलाव से मोतियाबिंद विकसित होता है।

उच्च रक्तचाप

इससे लेंस के प्रोटीन में होने वाला बदलाव मोतियाबिंद का प्रमुख कारण है। उच्च रक्तचाप आंखों की रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है, जिससे ग्लूकोमा जैसी समस्याएं होती हैं।

चोट

आंख की चोट से लेंस में होने वाला बदलाव मोतियाबिंद विकसित कर सकता है। हालांकि, कुछ मामलों में सर्जरी या दवाएं भी मोतियाबिंद का विकास करती हैं।

उम्र बढ़ने

बढ़ती उम्र के साथ लोगों में मोतियाबिंद होने की संभावना ज्यादा होती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि लेंस में प्रोटीन समय के साथ टूटकर आपस में चिपक जाते हैं। कभी-कभी मैकुलर डिजेनेरेशन जैसी उम्र से संबंधित अन्य स्थितियां भी मोतियाबिंद का कारण बन सकती हैं।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद आंखों के लेंस में छोटे और रंगीन बुलबुले की उपस्थिति है। यह बुलबुले लेंस की संरचना में बदलाव से होते हैं, जिससे दृष्टि कम हो सकती है।

फ्लोरिफॉर्म बनाम मोतियाबिंद के अन्य प्रकार – Floriform v/s Other Types Of Cataract In Hindi

आमतौर पर फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद और अन्य प्रकार के मोतियाबिंद के बीच मुख्य अंतर उनका आकार है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद फूलों के आकार का होता है और केंद्र से निकलने वाली कई रेडियल तीलियों के साथ गोल हैं। जबकि, अन्य प्रकार के मोतियाबिंदों का आकार ज्यादा अनियमित होता है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद वयस्कों के मुकाबले बच्चों में ज्यादा आम है। यह सभी जन्मजात मोतियाबिंदों का लगभग 20 प्रतिशत हिस्सा हैं। यह विकास के दौरान आंख में चोट लगने के कारण या उन्हें विरासत में मिला हो सकता है।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद घने होते हैं, जो इसका एक अन्य आम अंतर है। इस तरह अन्य प्रकार के मोतियाबिंदों की तुलना में इसका इलाज करना कठिन है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि केंद्र में लगे स्पोक प्रकाश के गुजरने में कठिनाई पैदा करते हैं। इसके कारण मोतियाबिंद को हटाने और दृष्टि में सुधार के लिए अक्सर सर्जरी की जरूरत होती है। अगर आपको या आपके बच्चे को फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद है, तो आज ही अपने आंखों के डॉक्टर से संपर्क करना सुनिश्चित करें। इस प्रकार जल्द निदान और उपचार से ज्यादातर लोग अच्छी दृष्टि प्राप्त कर सकते हैं।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का बनना – Formation Of Floriform Cataract In Hindi

एक फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के विकास की खासियत लेंस फाइबर के फैलने से होती है। इसके कारण कई छोटी और गोल अपारदर्शिताएं बनती हैं, जो फूलों की पंखुड़ियों से मिलती जुलती हैं। साथ ही लेंस के बीच का हिस्सा साफ रहता है या ज्यादा एडवांस मोतियाबिंद विकसित हो सकता है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद अक्सर अन्य आंखों की स्थितियों से जुड़ा होता है। इनमें यूवाइटिस, मायोपिया और डायबिटीज शामिल हैं।

हालांकि, यह स्टेरॉयड जैसी कुछ दवाओं की जटिलता से भी हो सकते हैं। ज्यादातर मामलों में फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद जन्मजात होते हैं। इसका मतलब है कि यह जन्म के समय मौजूद होते हैं। हालांकि, यह जीवन में बाद में भी विकसित हो सकते हैं। आप इस छवि में एक फ्लोरिफ़ॉर्म मोतियाबिंद का एक उदाहरण देख सकते हैं। कभी-कभी, फ्लोरिफ़ॉर्म मोतियाबिंद को “फूल मोतियाबिंद” कहा जाता है।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का प्रभाव – Effect Of Floriform Cataract In Hindi

फ्लोटर्स धब्बे या तार होते हैं, जो आपकी दृष्टि के हिस्से में तैरते हुआ महसूस होते हैं। यह साफ और जेली जैसे पदार्थ के अंदर जेल या कोशिकाओं के छोटे-छोटे गुच्छे होते हैं, जो आपकी आंख यानी विट्रियस के अंदर भरते हैं। आमतौर पर ज्यादातर लोगों के पास फ्लोटर्स होते हैं और इससे उन्हें किसी भी तरह की परेशानी का अहसास नहीं होता है। इसके अलावा फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का आपकी दृष्टि पर प्रभाव उसके आकार और स्थान पर निर्भर करता है। अगर मोतियाबिंद छोटा है, तो यह आपकी दृष्टि को बिल्कुल भी प्रभावित नहीं कर सकता है।

मोतियाबिंद बड़ा या आपकी आंख के केंद्र में स्थित होने पर यह दृष्टि संबंधी गंभीर समस्याएं पैदा कर सकता है। इसलिए, दृष्टि में कोई समस्या होने पर आपको व्यापक आंखों की जांच के लिए किसी ऑप्टोमेट्रिस्ट या नेत्र रोग विशेषज्ञ को दिखाना चाहिए। आंखों की जांच के दौरान सबसे पहले डॉक्टर द्वारा आपके लक्षणों और चिकित्सा इतिहास के बारे में पूछताछ की जाती है। इसके बाद ही वह आपकी दृष्टि और आंखों के स्वास्थ्य का मूल्यांकन करने के लिए कई परीक्षण करते हैं। इनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • विजुअल एक्विटी टेस्ट: यह मापता है कि आप अलग-अलग दूरी पर कितनी अच्छी तरह देख सकते हैं।
  • स्लिट-लैंप एक्ज़ामिनेशन: यह एक विशेष प्रकार का माइक्रोस्कोप है, जिससे आपके डॉक्टर को आपकी आंख की संरचनाओं की बारीकी से जांच करने में मदद मिलती है।
  • टोनोमेट्री: इससे आपकी आंख के अंदर के दबाव यानी इंट्राओकुलर प्रेशर को मापा जाता है।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का निदान – Diagnosis Of Floriform Cataract In Hindi

Diagnosing Floriform Cataractअगर आपके डॉक्टर को लगता है कि आपको मोतियाबिंद है, तो वह एक व्यापक आंखों की जांच करते हैं। इसमें आपकी दृष्टि की जांच और आपकी आंख के पिछले हिस्से को देखने के लिए एक ऑप्थाल्मोस्कोप नाम के हल्के उपकरण का उपयोग करना शामिल है। अगर आपके पास मोतियाबिंद मौजूद है, तो डॉक्टर आपको आगे के मूल्यांकन के लिए एक विशेषज्ञ के पास भेजते हैं।

मोतियाबिंद का मूल्यांकन करने के लिए कई निदान परीक्षण किए जा सकते हैं, लेकिन सबसे आम एक स्लिट लैंप एक्जामिनेशन है। इसमें डॉक्टर आपके लेंस सहित आंख के सामने वाले हिस्से को देखने के लिए एक उज्ज्वल प्रकाश के साथ खास माइक्रोस्कोप का उपयोग करते हैं। अगर आपको मोतियाबिंद है, तो डॉक्टर आपके लेंस में अस्पष्टता या धुंधले हिस्से की जांच करते हैं।

मोतियाबिंद के आकार और स्थान के बारे में ज्यागा जानकारी प्राप्त करने के लिए आपके डॉक्टर आपको अन्य परीक्षणों का सुझाव भी दे सकते हैं। इनमें आपकी आंख का अल्ट्रासाउंड या आपके सिर का एक्स-रे शामिल हैं। एक बार निदान हो जाने पर डॉक्टर उपचार योजना विकसित करने के लिए आपके साथ काम करते हैं।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद का इलाज – Treatment Of Floriform Cataracts In Hindi

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के निदान के बाद अगला कदम सबसे बेहतरीन उपचार योजना निर्धारित करना है। अगर आपका मोतियाबिंद छोटा है और आपकी दृष्टि को प्रभावित नहीं करता है, तो आपको उपचार की जरूरत नहीं है। हालांकि, मोतियाबिंद बड़ा होने या गंभीर दृष्टि समस्याओं का कारण बनने पर आपको सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है।

मोतियाबिंद सर्जरी एक बहुत ही सामान्य और सुरक्षित प्रक्रिया है। इसमें आपकी आंख के धुंधले लेंस को हटाना और इसे एक साफ आर्टिफिशियल यानी इंट्राओकुलर लेंस से बदलना शामिल है। यह सर्जरी आमतौर पर एक आउट पेशेंट प्रक्रिया के रूप में की जाती है। इसका मतलब है कि आप उसी दिन घर जा सकते हैं। आपकी दृष्टि में सुधार के लिए कुछ अन्य उपचार विकल्पों का उपयोग किया जा सकता है। हालांकि, यह मोतियाबिंद को दूर नहीं करते हैं। इन विकल्पों में शामिल हैं:

  • चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस
  • मैग्निफाइंग ग्लास
  • तेज रोशनी
  • बड़े प्रिंट वाली सामग्री

अगर आपके पास एक फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद है, तो नियमित जांच के लिए एक योग्य नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना जरूरी है। इस तरह डॉक्टर मोतियाबिंद की निगरानी से सुनिश्चित कर सकते हैं कि यह आपकी दृष्टि को प्रभावित नहीं कर रहा है। ऐसे में दृष्टि से संबंधित किसी भी बदलाव का अनुभव होने पर आपको तुरंत अपने डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट शेड्यूल करना चाहिए।

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद की रोकथाम – Prevention OF Floriform Cataract In Hindi

Preventing Floriform Cataractफ्लोटर्स आमतौर पर हानिरहित होते हैं, लेकिन अगर आप फ्लोटर्स की संख्या में अचानक बढ़ोतरी का अनुभव करते हैं या रोशनी की चमक देखते हैं, तो आपको तुरंत एक नेत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए। यह रेटिनल डिटैचमेंट के लक्षण हो सकते हैं। यह एक गंभीर आंखों की स्थिति है, जो अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर अंधेपन का कारण बनती है।

धूप का चश्मा पहनना और तेज धूप से बचना मोतियाबिंद के विकास का जोखिम कम करने में फायदेमंद साबित हो सकता है। अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो धूम्रपान छोड़ना आपकी दृष्टि सहित संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छी चीजों में से एक हो सकता है। इसके अलावा स्वस्थ आहार के सेवन और स्वस्थ वजन बनाए रखने को भी आपकी आंखों के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है।

अगर आपको डायबिटीज है, तो अपने रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखना आपके लिए जरूरी है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि उच्च रक्त शर्करा का स्तर आपके रेटिना में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है। इससे आपको डायबिटिक रेटिनोपैथी हो सकती है। इसे एक बहुत गंभीर स्थिति माना जाता है, जो कई बार अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर अंधेपन का कारण बनती है।

अगर आपके पास भी मोतियाबिंद के अस प्रकार का पारिवारिक इतिहास है, तो आपको यह स्थिति विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए, फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद के जोखिम के बारे में परेशान लोगों को आंखों की सुरक्षा के आसान और प्रभावी तरीके जानने के लिए अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से बात करनी चाहिए।

निष्कर्ष – Conclusion In Hindi

फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद एक असामान्य प्रकार का मोतियाबिंद है। यह अक्सर 60 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों में देखा जाता है। इसके अलावा यह स्थिति आपकी दृष्टि धुंधली या खराब होने का कारण भी बन सकती है। ऐसे में अगर आपको या आपके किसी परिचित को यह स्थिति है, तो आपको उपचार के लिए एक अनुभवी नेत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए। इस प्रकार जल्द निदान और उपचार से आपको आंखों की गंभीर समस्याओं से बचने और अपनी दृष्टि बनाए रखने में मदद मिल सकती है। हालांकि, इसके उपचार के विकल्पों में सर्जरी या करेक्टिव लेंस पहनना शामिल है। फ्लोरिफॉर्म मोतियाबिंद आम नहीं है, इसलिए आपको इसके लक्षणों और उपचार विकल्पों के बारे में पता होना जरूरी है।

मोतियाबिंद सर्जरी एक सुरक्षित और दर्द रहित प्रक्रिया है। आई मंत्रा में हमारे पास अनुभवी आंखों के सर्जनों की एक टीम है, जो मोतियाबिंद सर्जरीमोतियाबिंद सर्जरी की कीमत, मोतियाबिंद सर्जरी के अलग-अलग प्रकारों के लिए मोतियाबिंद लेंस की कीमत- फेकोइमल्सीफिकेशनएमआईसीएस और फेम्टो लेजर मोतियाबिंद पर आपके किसी भी सवाल का जवाब देने में सक्षम है। ज्यादा जानकारी के लिए हमें +91-9711116605 पर कॉल या [email protected] पर ईमेल करें।