पीएससीसी मोतियाबिंद: लक्षण, कारण और उपचार – PSCC Cataract: Symptoms, Causes And Treatment In Hindi

PSCC Cataract Signs , Causes and Treatment Options

पीएससीसी मोतियाबिंद क्या है – What Is PSCC Cataract In Hindi

What Is PSCC Cataractपीएससीसी मोतियाबिंद एक अन्य स्थिति है, जिसके कारण आंख का लेंस धुंधला हो जाता है। इससे दृष्टि हानि और कुछ मामलों में स्थायी अंधापन हो सकता है। मोतियाबिंद का यह प्रकार बुजुर्गों सबसे आम है, लेकिन इससे सभी उम्र वाले लोगों के प्रभावित होने की संभावना है। पीएससीसी मोतियाबिंद के कई अलग-अलग प्रकार हैं, जिनमें से प्रत्येक के अपने लक्षण और उपचार विकल्प हैं।

यह मोतियाबिंद आंख के लेंस में प्रोटीन के जमा होने से होता है, जो लेंस को धुंधला और अपारदर्शी बनाते हैं। समय के साथ यह धुंधलापन बढ़ता है, जिसके कारण दृष्टि में कमी या अंधेपन जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। पीएससीसी मोतियाबिंद के कई अलग-अलग प्रकार हैं, जिनमें सभी के अपने लक्षण और उपचार विकल्प हैं। इसका सबसे आम प्रकार उम्र से संबंधित पीएससीसी मोतियाबिंद है, जो आमतौर पर बुजुर्गों को प्रभावित करता है। इसके अन्य प्रकारों में जन्मजात पीएससीसी मोतियाबिंद शामिल है और यह जन्म के समय मौजूद होता है।

इसका एक प्रकार चोट संबंधी पीएससीसी मोतियाबिंद है, जो आंख की चोट के कारण होता है। पीएससीसी मोतियाबिंद का अगला प्रकार रेडिएशन-इंक्लुडेड पीएससीसी मोतियाबिंद है। यह कुछ प्रकार के रेडिएशन के संपर्क में आने से होता है। मोतियाबिंद आंख में लेंस का एक धुंधलापन है, जो आपकी दृष्टि को प्रभावित करता है और दुनिया भर में अंधेपन का प्रमुख कारण है। मोतियाबिंद तीन प्रकार के होते हैं, जिसमें न्यूक्लियर, कॉर्टिकल और पोस्टीरियर सबकैप्सुलर शामिल हैं। इस ब्लॉग पोस्ट में हम पीएससीसी मोतियाबिंद के प्रकार के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। साथ ही हम इस प्रकार के पीएससीसी मोतियाबिंद के लक्षणों और उपचार विकल्पों के बारे में भी बात करेंगे।

पीएससीसी मोतियाबिंद के लक्षण – Symptoms Of PSCC Cataract In Hindi

Symptoms of PSCC Cataractपीएससीसी मोतियाबिंद के लक्षण मौजूद मोतियाबिंद के प्रकार के आधार पर अलग होते हैं। इसके कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

अस्पष्ट या धुंधली दृष्टि

पीएससीसी मोतियाबिंद के सबसे आम लक्षणों में से एक अस्पष्ट या धुंधली दृष्टि है। इससे नज़दीक और दूर दोनों को देखना मुश्किल हो सकता है। कभी-कभी आपकी दृष्टि में कई छोटे धब्बे हो सकते हैं।

रोशनी के आसपास चमकते घेरे

पीएससीसी मोतियाबिंद का अन्य सामान्य लक्षण रोशनी के चारों तरफ चमकते घेरे की उपस्थिति है। इससे रात के समय या कम रोशनी वाली स्थितियों में गाड़ी चलाना मुश्किल होता है।

आंखों में दर्द या बेचैनी

पीएससीसी मोतियाबिंद वाले कुछ लोगों को आंखों में दर्द या परेशानी का अनुभव हो सकता है। यह आमतौर पर लेंस में धुंधलेपन के कारण होता है, जिससे आंखों में रोशनी बिखर जाती है। कुछ मामलों में यह दर्द दवा की जरूरत के लिए काफी गंभीर हो सकता है। जबकि, अन्य पास का काम करते समय या पढ़ते हुए भी असुविधा हो सकती है।

निकट दृष्टि दोष

पीएससीसी मोतियाबिंद का अन्य आम लक्षण निकट दृष्टि दोष है, जिसे प्रेसबायोपिया कहते हैं। इससे अन्य पास के काम करना या पढ़ना मुश्किल हो जाता है। इस समस्या को ठीक करने के लिए आपको बाइफोकल्स या रीडिंग चश्मे की जरूरत पड़ सकती है।

रंगों का फीका या पीला दिखना

रंगों का फीका या पीला दिखना पीएससीसी मोतियाबिंद का एक अन्य लक्षण है। इससे आपके लिए अलग-अलग रंगों के बीच अंतर करना मुश्किल हो सकता है। यह खासतौर से कम रोशनी वाली स्थितियों में होता है, जिससे कंट्रास्ट देखना मुश्किल हो जाता है।

रोशनी के चारों तरफ चकाचौंध दिखना

इस प्रकार के मोतियाबिंद का अन्य सामान्य लक्षण रोशनी के चारों तरफ चकाचौंध की उपस्थिति है। इससे आपके लिए रात के समय या कम रोशनी वाली अन्य स्थितियों में गाड़ी चलाना मुश्किल हो सकता है।

पीएससीसी मोतियाबिंद के जोखिम – Risks of PSCC Cataract

पीएससीसी मोतियाबिंद के विकास में कई जोखिम कारकों को जिम्मेदार माना जाता है, जिनमें शामिल हैं:

उम्र

पीएस मोतियाबिंद के विकास के लिए सबसे पहला जोखिम कारक आपकी उम्र है। आप जितने बड़े होंगे, इस स्थिति विकसित होने की संभावना उतनी ही ज्यादा होगी। आमतौर पर 65 साल से ज्यादा उम्र के लगभग 50 प्रतिशत लोगों में कुछ हद तक पीएससीसी मोतियाबिंद होता है।

धूम्रपान

पीएससीसी मोतियाबिंद के विकास का अन्य प्रमुख जोखिम कारक धूम्रपान है। अध्ययनों के अनुसार, धूम्रपान करने वालों में धूम्रपान नहीं करने वालों के मुकाबले यह स्थिति विकसित होने की संभावना दोगुनी ज्यादा होती है।

डायबिटीज

यह पीएससीसी मोतियाबिंद के विकास में अन्य जरूरी जोखिम कारक है। डायबिटीज वाले लोगों में बिना डायबिटीज वाले लोगों के मुकाबले यह स्थिति विकसित होने की संभावना चार गुना ज्यादा होती है।

पराबैंगनी प्रकाश के संपर्क

पीएससीसी मोतियाबिंद के विकास में पराबैंगनी प्रकाश से संपर्क एक अन्य संभावित जोखिम कारक है। यूवी प्रकाश आंखों के लेंस में प्रोटीन को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे प्रोटीन जमा हो सकते हैं और लेंस में धुंधलेपन का कारण बनते हैं।

पारिवारिक इतिहास

अगर आपके परिवार में किसी सदस्य को पीएससीसी मोतियाबिंद है, तो आपको उन्हें अपने आप विकसित करने का ज्यादा खतरा हो सकता है। यह आनुवंशिकी उम्र से संबंधित पीएससीसी मोतियाबिंद के विकास में भी भूमिका निभाती है।

आंख की चोट या सर्जरी

इसके अलावा आंख की चोट या पिछली आंख की सर्जरी से पीएससीसी मोतियाबिंद का खतरा बढ़ता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह प्रक्रियाएं आंखों के लेंस को नुकसान पहुंचा सकती हैं और प्रोटीन के जमा होने का कारण बनती हैं।

आंख का रेडिएशन

एक्स-रे जैसे कुछ प्रकार के रेडिएशन के संपर्क में आने से भी आंखों के लेंस में प्रोटीन को नुकसान हो सकता है। इस प्रकार लेंस का प्रोटीन जमा होकर पीएससीसी मोतियाबिंद का कारण बन सकता है।

पीएससीसी मोतियाबिंद का प्रभाव – Effect Of PSCC Cataract In Hindi

कई अलग-अलग चीजें हैं, जो किसी व्यक्ति के जीवन को प्रभावित कर सकती हैं। हालांकि, सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक उनकी दृष्टि है। जब किसी व्यक्ति को मोतियाबिंद होता है, तो इससे आपको दृष्टि संबंधी कई समस्याएं हो सकती हैं। सबसे आम समस्याओं में से एक यह है कि उन्हें रात में देखने में कठिनाई होगी। इससे गाड़ी चलाना या अन्य गतिविधियां करना मुश्किल हो सकता है, जिनके लिए अच्छी दृष्टि की जरूरत होती है। साथ ही मोतियाबिंद भी बारीक प्रिंट को पढ़ना या देखना भी मुश्किल बनाता है। पीएससीसी मोतियाबिंद एक प्रकार का मोतियाबिंद है, जो धीरे-धीरे विकसित होता है और आमतौर पर आपकी दोनों आंखों को समान रूप से प्रभावित करता है।

इस प्रकार का मोतियाबिंद तब होता है, जब आंख के लेंस में प्रोटीन बदलते हैं और आपस में चिपक जाते हैं। यह गुच्छे लेंस से गुजरते समय रोशनी को ब्लॉक करते या बिखेरते हैं, जिससे आपको वस्तुएं धुंधली दिखाई देती हैं। यह मोतियाबिंद आमतौर पर 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। साथ ही यह आंख की फोकस बदलने की क्षमता को भी प्रभावित करता है। इससे आपके लिए पढ़ने या अन्य गतिविधियों को करना मुश्किल होता है, जिनके लिए अच्छी दृष्टि जरूरी है। पीएससीसी मोतियाबिंद दुनिया में मोतियाबिंद का सबसे आम प्रकार है, जो लाखों लोगों के दैनिक जीवन को गंभीर रूप से प्रभावित करता है।

पीएससीसी मोतियाबिंद का उपचार – Treatment Of PSCC Cataracts In Hindi

How To Treat PSCC Cataracts?पीएससीसी मोतियाबिंद का इलाज मुश्किल हो सकता है, क्योंकि इसका कोई ज्ञात इलाज नहीं है। हालांकि, ऐसे उपचार उपलब्ध हैं जो आपकी दृष्टि और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। इसमे शामिल है:

  • सर्जरी: पीएससीसी मोतियाबिंद के लिए यह सबसे आम उपचार है। इस सर्जरी के दौरान धुंधले लेंस को हटा दिया जाता है, जिसे सर्जन एक साफ आर्टिफिशियल लेंस से बदल देते हैं। यह आपकी दृष्टि को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। इस सर्जरी की प्रक्रिया भी आमतौर पर बहुत सुरक्षित होती है।
  • दवाएं: पीएससीसी मोतियाबिंद का इलाज करने के लिए कई अलग-अलग दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है। इनमें कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स शामिल हैं, जो सूजन और दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा एंटीग्लूकोमा दवाएं आंखों से जल निकासी में सुधार और दबाव को कम करने में मदद कर सकती हैं।

अगर आपको पीएससीसी मोतियाबिंद है, तो आपके लिए सबसे अच्छे उपचार विकल्पों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करना जरूरी है। इस प्रकार सही उपचार के साथ आप अपनी दृष्टि और जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं।

पीएससीसी मोतियाबिंद की रोकथाम – Prevention Of PSCC Cataracts In Hindi

मोतियाबिंद को पूरी तरह से रोकना संभव नहीं हो सकता है। हालांकि, आप निम्नलिखित सुझावों की मदद से अपने जोखिम को कम कर सकते हैं:

यूवी सुरक्षा वाले धूप का चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस पहनें

मोतियाबिंद के विकास के लिए सबसे आम जोखिम कारकों में से एक सूरज की पराबैंगनी किरणों से संपर्क है। आप यूवीए और यूवीबी रेडिएशन दोनों को ब्लॉक करने वाला धूप का चश्मा पहनकर या यूवी प्रोटेक्शन वाले कॉन्टैक्ट लेंस पहनकर अपनी आंखों को यूवी किरणों से बचा सकते हैं।

स्वस्थ आहार खाएं

एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन ए और सी से भरपूर आहार खाने से आपको मोतियाबिंद के विकास का जोखिम कम करने में मदद मिल सकती है। इन पोषक तत्वों के अच्छे स्रोतों में गहरे रंग के पत्तेदार साग, खट्टे फल, टमाटर, सैल्मन, नट्स और अंडे शामिल हैं।

धूम्रपान से परहेज करें

धूम्रपान करने वाले लोगों में धूम्रपान नहीं करने वालों लोगों के मुकाबले मोतियाबिंद की संभावना दो से तीन गुना ज्यादा होती है। ऐसे में अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ना आंखों के स्वास्थ्य सहित आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छी चीजों में से एक है।

नियमित रूप से व्यायाम करें

नियमित व्यायाम को मोतियाबिंद के विकास के कम जोखिम से जोड़ा गया है। ऐसे में अपनी आंखों को स्वस्थ रखने में मदद के लिए आप निम्नलिखित व्यायाम कर सकते हैं:

  • आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करें।
  • रक्त परिसंचरण में सुधार।
  • तनाव और थकान कम करें।

आंखों की नियमित जांच कराएं

अगर आपके पास मोतियाबिंद का पारिवारिक इतिहास है या आपकी उम्र 60 साल से ज्यादा है, तो नियमित रूप से अपनी आंखों की जांच करवाना जरूरी है। इससे आपको मोतियाबिंद के जल्द निदान और उपचार में मदद मिलती है।

यह जीवनशैली से संबंधित कुछ बदलाव हैं, जो मोतियाबिंद के खतरे को कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। ऐसे में इस प्रकार के मोतियाबिंद की ज्यादा जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर या किसी नेत्र विशेषज्ञ से बात करने की सलाह दी जाती है।

निष्कर्ष – Conclusion In Hindi

पीएससीसी मोतियाबिंद एक बहुत ही गंभीर स्थिति है, जिससे दृष्टि हानि या अंधापन भी हो सकता है। अगर आपको या आपके किसी परिचित को इस प्रकार का मोतियाबिंद है, तो तुरंत एक अनुभवी नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना जरूरी है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि शुरुआती निदान और उपचार से आपकी दृष्टि को बेहतर बनाने और गंभीर जटिलताओं से बचने में मदद मिलती है। अगर आपको पीएससीसी मोतियाबिंद का निदान किया गया है, तो कई उपचार विकल्प आपकी दृष्टि में सुधार कर सकते हैं।

मोतियाबिंद सर्जरी एक सुरक्षित और दर्द रहित प्रक्रिया है। आई मंत्रा में हमारे पास अनुभवी आंखों के सर्जनों की एक टीम है, जो मोतियाबिंद सर्जरीमोतियाबिंद सर्जरी की कीमत, मोतियाबिंद सर्जरी के अलग-अलग प्रकारों के लिए मोतियाबिंद लेंस की कीमत- फेकोइमल्सीफिकेशनएमआईसीएस और फेम्टो लेजर मोतियाबिंद पर आपके किसी भी सवाल का जवाब देने में सक्षम है। ज्यादा जानकारी के लिए हमें +91-9711116605 पर कॉल या eyemant[email protected] पर ईमेल करें।