मल्टीफोकल आईओएल: कार्य, उपयोग और फायदे – Multifocal IOLs : Working, Uses And Benefits In Hindi

Multifocal IOLs : Working, Uses and Benefits

Contents

मल्टीफोकल आईओएल क्या हैं – What Are Multifocal IOLs In Hindi

What Are Multifocal IOLs?मल्टीफोकल आईओएल एक इंट्राओकुलर लेंस हैं, जो मरीजों को चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस की जरूरत के बिना कई दूरी पर देखने में मदद करते हैं। मल्टीफोकल आईओएल एक दशक से ज्यादा समय से उपलब्ध हैं और इसके कई अलग-अलग प्रकार एफडीए-अप्रूव्ड हैं। मल्टीफोकल लेंस एलएसओ होते हैं, जिनमें दो या उससे ज्यादा ऑप्टिकल जोन होते हैं और इनमें से प्रत्येक एक अलग दूरी पर केंद्रित होता है।

आज उपलब्ध सबसे सामान्य प्रकार का मल्टीफोकल लेंस डिफ्रेक्टिव प्रकार का लेंस है। इसमें लेंस की सतह पर छोटे चरणों या रिंग की एक सीरिज़ होती है। इन चरणों के कारण रोशनी इस तरह बिखर जाती है कि इसका कुछ हिस्सा रेटिना पर केंद्रित हो जाता है। जबकि, बाकी दूसरे केंद्र बिंदु पर बना रहता है। इससे आपको पास और दूर दोनों दूरी पर स्पष्ट दृष्टि में मदद मिलती है। इन लेंसों को एक्सटेंडेड डेप्थ ऑफ फोकस या ईडीओएफ लेंस के रूप में भी जाना जाता है। यह लेंस रोशनी को इस तरह से डिफ्रेक्ट करके काम करते हैं, जिससे यह आंखों के अंदर कई बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित कर सके।

इस प्रकार का लेंस उन मरीजों के लिए सबसे अच्छा है, जिन्हें प्रेसबायोपिया या उम्र से संबंधित दूरदर्शिता है। अगर आप अपनी दृष्टि में सुधार के लिए सर्जरी कराने पर विचार कर रहे हैं, तो आप सोच रहे होंगे कि क्या मल्टीफोकल आईओएल आपके लिए सही विकल्प है। कई फायदों और बेहतरीन नतीजों के कारण मल्टीफोकल आईओएल तेजी से लोकप्रिय हो रहे हैं। इस ब्लॉग पोस्ट में हम चर्चा करेंगे कि मल्टीफोकल आईओएल क्या हैं और यह कैसे काम करते हैं। इसके अलावा आप इस प्रकार के लेंस इम्प्लांट के फायदे या नुकसान से संबंधित बातें भी जानेंगे। साथ ही हम मल्टीफोकल आईओएल के बारे में कुछ सामान्य सवालों के जवाब भी देंगे।

मल्टीफोकल आईओएल के प्रकार – Types Of Multifocal IOLs In Hindi

Types of Multifocal IOLsआज बाजार में कई प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल उपलब्ध हैं। हालांकि, रिफ्रेक्टिव मल्टीफोकल आईओएल इसका सबसे आम प्रकार है, जो निकट दृष्टि और दूरदर्शिता दोनों को ठीक करने में मदद करता है। अन्य प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल में निम्नलिखित विकल्प शामिल हैं:

अकोमोडेटिव आईओएल

इन आईओएल को अलग-अलग दूरी पर ध्यान केंद्रित करने और आकार बदलने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह मल्टीफोकल आईओएल के नए प्रकार हैं, जो अभी तक व्यापक रूप से उपलब्ध नहीं हैं। इसके अलावा प्रेसबायोपिया और मोतियाबिंद दोनों से पीड़ित मरीजों के लिए अकोमोडेटिव आईओएल एक अच्छा विकल्प हो सकता है। कभी-कभी एक ही प्रकार के आईओएल के लिए कई अलग-अलग ब्रांड वाले नाम हो सकते हैं।

रिफ्रेक्टिव मल्टीफोकल आईओएल

रिफ्रेक्टिव मल्टीफोकल आईओएल मल्टीफोकल आईओएल का सबसे आम प्रकार है। आज कई अलग-अलग प्रकार के रिफ्रेक्टिव मल्टीफोकल आईओएल हैं, जिनमें से प्रत्येक के अपने फायदे और नुकसान हैं। इनमें सबसे आम डिफ्रेक्टिव प्रकार का लेंस है, जिसकी हमने पहले चर्चा की थी। जबकि, अन्य प्रकार के रिफ्रेक्टिव मल्टीफोकल आईओएल में नीचे दिए गए विकल्प शामिल हैं:

  • रिफ्रेक्टिव इंडेक्स ग्रेजिएंट (आरआईजी) लेंस: इन लेंसों में रिफ्रेक्टिव इंडेक्स लेंस के केंद्र में सबसे ज्यादा होता है और किनारों की तरफ घटता है। इससे  आपको फोकस की एक बड़ी रेंज के लिए मदद मिलती है।
  • एस्फेरिक लेंस: इन लेंसों को अलग-अलग दूरी पर स्फेरिकल अब्रेशन या धुंधलेपन को कम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसके अलावा एस्फेरिक लेंस अन्य प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल की तुलना में बेहतर गुणवत्ता वाली दृष्टि प्रदान कर सकते हैं।
  • वेवफ्रंट ऑप्टिमाइज़्ड (डब्ल्यूएफओ) लेंस: इन लेंसों को अब्रेशन या त्रुटियों में कमी और छवि गुणवत्ता में सुधार करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। वेवफ्रंट-ऑप्टेमाइज़ लेंस अन्य प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल की तुलना में बेहतर गुणवत्ता वाली दृष्टि प्रदान कर सकते हैं।

पिगीबैक लेंस इम्प्लांट

पिगीबैकिंग तब होता है, जब सर्जरी के दौरान दो लेंस लगाए जाते हैं और एक को दूसरे के सामने रखा जाता है। यह दो समान लेंस या दो अलग लेंस के साथ किया जा सकता है। पिगीबैकिंग उन मरीजों के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है, जो एक आईओएल के लिए उम्मीदवार नहीं हैं। इसके अलावा यह उन लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है, जो दूरी और निकट दृष्टि के लिए अलग-अलग पावर के साथ आईओएल चाहते हैं। यह प्रकार उन मरीजों के लिए भी एक अच्छा विकल्प माना जाता है, जिनकी पिछली रिफ्रेक्टिव सर्जरी हो चुकी है। इस प्रकार फ्रंट लेंस आमतौर पर एक मोनो-विज़न आईओएल है, जो अच्छी गुणवत्ता की दूरी दृष्टि प्राप्त करने में आपकी मदद करता है।

सही मल्टीफोकल आईओएल कैसे चुनें – How To Choose Right Multifocal IOLs In Hindi

Which Multifocal IOLs Is Best For Youमल्टीफोकल आईओएल चुनना एक जटिल फैसला है, जो आपकी जीवनशैली, व्यवसाय और दृष्टि लक्ष्यों सहित कई कारकों पर निर्भर करता है। हालांकि, कई कारक आपके फैसले को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में यह निर्धारित करने के लिए एक अनुभवी नेत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना जरूरी है कि कौन सा आईओएल आपके लिए सबसे अच्छा है। ऐसे ही कुछ कारक निम्नलिखित हैं, जो आपको अपना फैसला लेने में मदद कर सकते हैं:

आपकी ज़रूरतें

यह मुख्य कारकों में से एक है, जो आपको यह तय करने में मदद करेगा कि आपके लिए कौन सा मल्टीफोकल आईओएल सबसे अच्छा है और आपको अपने नए लेंस से क्या चाहिए। सर्जरी के बाद दृष्टि के लिए आपके लक्ष्य क्या हैं? क्या आपकी कोई खास चिंता या सवाल है? ऐसा इसलिए है, क्योंकि कभी-कभी कई अलग-अलग प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल भी हो सकते हैं, जो आपकी जरूरतों को पूरा करने में मदद करते हैं। ऐसे में सबसे बेहतरीन सलाह लेने के लिए किसी अनुभवी विशेषज्ञ से परामर्श करना जरूरी है।

आपकी जीवनशैली

विचार करने का एक अन्य कारक आपकी जीवनशैली है। क्या आप बहुत सक्रिय हैं? क्या आप लंबे समय तक काम करते हैं और आपके शौक क्या हैं? इन सवालों के जवाब आपको यह तय करने में मदद कर सकते हैं कि किस प्रकार का मल्टीफोकल आईओएल आपके लिए सबसे अच्छा हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि कई बार जीवनशैली के लिए कुछ आईओएल डिजाइन बेहतर अनुकूल हो सकते हैं।

आपके सर्जन की सिफारिश

आप अपने सर्जन की सिफारिश पर भी विचार कर सकते हैं। उनके पास अलग-अलग प्रकार के आईओएल के साथ अनुभव है और वह अपनी पेशेवर राय दे सकते हैं जिस पर विचार करना आपके लिए सबसे अच्छा है। कभी-कभी कुछ प्रकार के आईओएल के लिए सर्जनों की प्राथमिकता भी हो सकती है।

कीमत और उपलब्धता

कीमत और उपलब्धता मल्टीफोकल आईओएल का चयन करते समय जरूरी कारक हैं। हो सकता है कि कुछ लेंस कुछ देशों में उपलब्ध न हों और अन्य लेंस दूसरों की तुलना में ज्यादा महंगे हो सकते हैं। ऐसे में सभी विकल्पों के बारे में अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से बात करना जरूरी है, ताकि आप अपने लिए सबसे अच्छा फैसला ले सकें।

मल्टीफोकल आईओएल पर काम करना – Working On Multifocal IOLs In Hindi

मल्टीफोकल आईओएल का काम मोनोफोकल आईओएल से मिलता-जुलता है। दोनों प्रकार के आईओएल रेटिना पर प्रकाश केंद्रित करते हैं, लेकिन मल्टीफोकल आईओएल में कई फोकल बिंदु होते हैं। इससे उन्हें पास और दूर दृष्टि दोनों को सही करने में मदद मिलती है। मल्टीफोकल आईओएल कई रिफ्रेक्टिव पावर वाले अलग-अलग हिस्सों से बने होते हैं। सबसे आम प्रकार बाइफोकल आईओएल है, जिसमें दूर दृष्टि और निकट दृष्टि के लिए दो फोकल पॉइंट होते हैं। इसके अलावा ट्राइफोकल्स लेंस में तीन और क्वाड्राफोकल्स में चार फोकल पॉइंट होते हैं।

इनमें पुतली का आकार इस बात को भी प्रभावित करता है कि मल्टीफोकल आईओएल कितनी अच्छी तरह काम करता है। कम रोशनी की स्थिति में पुतली फैल जाती है और अलग-अलग फोकल पॉइंट मिल जाते हैं, जिससे स्पष्ट रूप से देखना मुश्किल हो जाता है। जबकि, तेज रोशनी में पुतली सिकुड़ती है और अलग-अलग फोकल पॉइंट ज्यादा विशेष होते हैं, जिससे देखना आसान हो जाता है। अगर आपके पास मल्टीफोकल आईओएल है, तो आपको कुछ गतिविधियों के लिए चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस पहनने की जरूरत हो सकती है। इनमें रात के समय गाड़ी चलाना या बारीक प्रिंट पढ़ना शामिल हैं।

आप रोशनी के आसपास कुछ चकाचौंध और चमक का अनुभव भी कर सकते हैं। यह दुष्प्रभाव आमतौर पर कुछ हफ्तों या महीनों के बाद दूर हो जाते हैं, क्योंकि आपकी आंखें नए आईओएल में समायोजित हो जाती हैं। ऐसे में प्रेसबायोपिया वाले लोगों के लिए मल्टीफोकल आईओएल एक अच्छा विकल्प है। यह चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस पर आपकी निर्भरता को कम करना चाहते हैं। अन्य प्रकार की दृष्टि समस्याओं को ठीक करने के लिए उनका उपयोग अन्य प्रकार के आईओएल जैसे मोनोफोकल्स या टोरिक आईओएल के संयोजन में भी किया जा सकता है।

मल्टीफोकल आईओएल का प्रत्यारोपण – Implantation Of Multifocal IOLs In Hindi

Implantation of Multifocal IOLsमल्टीफोकल आईओएल का इम्प्लांटेशन नेत्र विज्ञान के क्षेत्र में अपेक्षाकृत नया और रोमांचक विकास है। मल्टीफोकल आईओएल को निकट दृष्टि और दूरदर्शिता के साथ-साथ प्रेसबायोपिया को ठीक करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। प्रेसबायोपिया पास की वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करने की उम्र से संबंधित क्षमता का नुकसान है। इस प्रकार का आईओएल मरीजों को सभी दूरियों पर बेहतरीन दृष्टि प्रदान कर सकता है और हाल के वर्षों में तेजी से लोकप्रिय हुआ है। आमतौर पर मल्टीफोकल आईओएल लेंस के भीतर ही कई फोकल पॉइंट होने से काम करते हैं। यह प्रकाश को सभी दूरी पर रेटिना पर ठीक से केंद्रित करने की अनुमति देता है, जिससे हर समय स्पष्ट        दृष्टि मिलती है। आज बाजार में दो मुख्य प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल उपलब्ध हैं: डिफ्रेक्टिव और रिफ्रेक्टिव।

जब एक मल्टीफोकल आईओएल इम्प्लांट करने का फैसला लिया जाता है, तो पहला कदम यह देखने के लिए एक अनुभवी नेत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना है कि क्या आप प्रक्रिया के लिए एक अच्छे उम्मीदवार हैं। इस परामर्श के दौरान आपके नेत्र रोग विशेषज्ञ आपकी आंखों की पूरी जांच करेंगे और आपके साथ आपके चिकित्सा इतिहास पर चर्चा करेंगे। एक बार जब यह निर्धारित हो जाता है कि आप सर्जरी के लिए एक अच्छे उम्मीदवार हैं, तो अगला कदम आईओएल के प्रकार को चुनना है, जो आपकी जरूरतों के लिए सबसे उपयुक्त हो।

इम्प्लांटेशन के दौरान कुछ अलग तकनीकें हैं, जिनका उपयोग किया जा सकता है। इनमें सबसे आम तकनीक को फेकोइमल्सीफिकेशन कहा जाता है। यह तकनीक आंख के प्राकृतिक लेंस को तोड़ने के लिए अल्ट्रासाउंड वेव का उपयोग करती है। इसके बाद यह एक छोटे चीरे के माध्यम से लेंस को बाहर निकालती है। एक बार प्राकृतिक लेंस हटा दिए जाने के बाद आईओएल को उसी चीरे में सही जगह पर रखा जाता है।

इम्प्लांटेशन के बाद

आमतौर पर इम्प्लांटेशन के बाद यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि आपकी आंखें सही तरीके से ठीक हो रही हैं और आप अच्छी तरह से देखने में सक्षम हैं। इसके लिए अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ के साथ नियमित फॉलो-अप अपॉइंटमेंट करना जरूरी है। ज्यादातर मरीज सर्जरी के बाद बेहतरीन दृष्टि की रिपोर्ट करते हैं और अपने नतीजों से बहुत संतुष्ट हैं। मल्टीफोकल आईओएल मरीजों को उनकी दृष्टि में सुधार करने और सभी दूरी पर स्पष्ट दृष्टि का आनंद लेने का एक शानदार तरीका प्रदान करते हैं।

मल्टीफोकल आईओएल के फायदे – Benefits Of Multifocal IOLs In Hindi

Benefits of Multifocal IOLsमल्टीफोकल आईओएल के कई फायदे हैं, जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

निकट, मध्यवर्ती और दूर दृष्टि को पुनर्स्थापित करने में फायदेमंद

मल्टीफोकल आईओएल आपकी पास, बीच और दूर दृष्टि को बहाल करने में मदद कर सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह आपको अलग-अलग दूरी पर वस्तुओं पर फोकस करने में मदद करते हैं। इस प्रकार के आईओएल से आपके जीवन स्तर को कई फायदे हो सकते हैं।

बाइफोकल्स या पढ़ने के चश्मे की जरूरत को कम

मल्टीफोकल आईओएल का एक अन्य फायदा है कि यह बाइफोकल या पढ़ने वाले चश्मे पर आपकी निर्भरता को कम कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह आपको व्यापक दृष्टि प्रदान करते हैं। आपको अभी भी कुछ काम करने के लिए इन उपकरणों का उपयोग करना पड़ सकता है, लेकिन आपको उनकी उतनी जरूरत नहीं होगी जितनी आपने सर्जरी से पहले की थी। कभी-कभी आपकी आंखों को नए आईओएल के साथ तालमेल बिठाने में भी थोड़ा समय लगता है।

कंट्रास्ट संवेदनशीलता में सुधार

मल्टीफोकल आईओएल आपकी कंट्रास्ट संवेदनशीलता में भी सुधार कर सकते हैं। इसका मतलब है कि आप वस्तुओं को स्पष्ट रूप और ज्यादा  विस्तार से देख पाएंगे। यह उन लोगों के लिए खासतौर से फायदेमंद हो सकता है, जिन्हें रात में या कम रोशनी की स्थिति में देखते समय कठिनाई होती है। इसका मतलब है कि आपको रोशनी के आसपास चकाचौंध या चमक का अनुभव होने की संभावना कम होगी।

जीवन की गुणवत्ता में सुधार

मल्टीफोकल आईओएल आपके जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह आपको ज्यादा स्वतंत्र होने में और उन चीजों को करने में मदद कर सकते हैं, जो आपको पसंद हैं। आप यह भी पा सकते हैं कि आपके पास ज्यादा ऊर्जा है और आप ज्यादा गतिविधियां कर सकते हैं। इन सभी कारकों से आपके जीवन की समग्र गुणवत्ता बेहतर हो सकती है।

हालांकि, सर्जरी से पहले मल्टीफोकल आईओएल के संभावित फायदों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करना जरूरी है। इस तरह आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि प्रक्रिया आपके लिए सही है और आप इसमें शामिल सभी जोखिमों को समझते हैं। अगर आप इस प्रकार की सर्जरी पर विचार कर रहे हैं, तो उन फायदों के बारे में पूछना सुनिश्चित करें, जो मल्टीफोकल आईओएल से आपको प्राप्त हो सकते हैं।

मल्टीफोकल आईओएल की जटिलताएं – Complications of Multifocal IOLs In Hindi

मोतियाबिंद सर्जरी में हालिया प्रगति के साथ मल्टीफोकल इंट्राओकुलर लेंस (आईओएल) का उपयोग तेजी से लोकप्रिय हो गया है। हालांकि, मल्टीफोकल आईओएल की कुछ जटिलताएं हैं, जिनके बारे में मरीजों को जानकारी होनी चाहिए। मल्टीफोकल आईओएल की सबसे आम जटिलता को दृश्य संबंधी गड़बड़ी कहा जाता है। इसमें चमक, चकाचौंध और दोहरी दृष्टि शामिल हो सकती है। यह लक्षण तब होते हैं, जब लेंस की अलग-अलग रिफ्रेक्टिव पावर के कारण रोशनी अलग-अलग तरीकों से आंख जाती है।

दृश्य से संबंधित गड़बड़ी आमतौर पर अस्थायी होती है और कुछ महीनों के अंदर ठीक हो जाती है। इन आईओएल की एक अन्य जटिलता को पोस्टीरियर कैप्सुलर ओपैसिफिकेशन यानी पीसीओ कहा जाता है। यह तब होता है, जब लेंस का पिछला भाग धुंधला हो जाता है। इस प्रकार पीसीओ धुंधली दृष्टि का कारण बनता है और एक परीक्षा के दौरान डॉक्टरों के लिए आंख के अंदर देखना मुश्किल बना सकता है। पीसीओ का इलाज याग कैप्सुलोटॉमी नाम की एक लेजर प्रक्रिया से किया जाता है।

मल्टीफोकल आईओएल की एक अन्य जटिलता को रेटिनल डिटैचमेंट कहते हैं। यह तब होता है, जब रेटिना यानी आंख के पीछे प्रकाश के प्रति संवेदनशील परत बाकी हिस्सों से अलग हो जाती है। रेटिनल डिटैचमेंट दृष्टि हानि का कारण बन सकता है और इसकी मरम्मत के लिए सर्जरी की जरूरत होती है। हालांकि, मल्टीफोकल आईओएल के कई फायदे हैं, लेकिन मरीजों को सर्जरी का फैसला करने से पहले संभावित जटिलताओं के बारे में पता होना चाहिए। इसीलिए, सर्जरी से पहले मरीजों को अपने डॉक्टर से सभी जोखिमों और फायदों पर चर्चा करने की सलाह दी जाती है।

निष्कर्ष  Conclusion In Hindi

आज बाजार में कई अलग-अलग प्रकार के मल्टीफोकल आईओएल उपलब्ध हैं। प्रत्येक प्रकार के फायदे और नुकसान हैं। यह निर्धारित करने के लिए कि आपके लिए किस प्रकार का आईओएल सही है, अपने नेत्र देखभाल पेशेवर से परामर्श करना जरूरी है। मल्टीफोकल आईओएल अलग-अलग दूरी पर स्पष्ट दृष्टि प्रदान करते हैं, लेकिन यह सभी के लिए उपयुक्त नहीं हो सकते हैं। अगर आपके कोई सवाल हैं कि मल्टीफोकल आईओएल आपके लिए सही है या नहीं, तो अपने डॉक्टर से बात करना सुनिश्चित करें। कई अलग-अलग प्रकार के आईओएल उपलब्ध हैं, इसलिए अपनी व्यक्तिगत जरूरतों के लिए सबसे अच्छा विकल्प चुनें।

हमें उम्मीद है कि इस ब्लॉग पोस्ट से आपको मल्टीफोकल आईओएल से संबंधित सवालों के जवाब मिले हैं। आंखों की देखभाल से संबंधित ज्यादा जानकारी या किसी भी परेशानी के लिए आज ही आई मंत्रा के अनुभवी विशेषज्ञों से संपर्क करें। मोतियाबिंद सर्जरी एक सुरक्षित और दर्द रहित प्रक्रिया है। इसके लिए आई मंत्रा में हमारे पास योग्य आंखों के सर्जनों की एक टीम है, जो मोतियाबिंद सर्जरीमोतियाबिंद सर्जरी की कीमत, मोतियाबिंद सर्जरी के अलग-अलग प्रकारों के लिए मोतियाबिंद लेंस की कीमत- फेकोइमल्सीफिकेशनएमआईसीएस और फेम्टो लेजर मोतियाबिंद पर आपके किसी भी सवाल का जवाब देने में सक्षम है। ज्यादा जानकारी के लिए हमें +91-9711116605 पर कॉल या [email protected] पर ईमेल करें।